आयुर्वेद के अतिरिक्त निदेशक व एसडीओ ने निःशुल्क शल्य चिकित्सा शिविर का किया निरीक्षण

0
186


आज के दौर में रोगियों की सेवा सर्वोपरी-सुनिता यादव

शाहपुरा-मूलचन्द पेसवानी
शाहपुरा के रामशाला भवन में आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा विभाग की ओर से भारत विकास परिषद शाखा शाहपुरा के तत्वावधान में आयोजित 10 दिवसीय क्षार सूत्र शल्य चिकित्सा शिविर का उपखंड अधिकारी सुनिता यादव, आयुर्वेद विभाग के अतिरिक्त निदेशक डॉ विनायक शर्मा व उपनिदेशक डॉ जलदीप पथिक ने निरीक्षण किया। इस मौके पर भारत विकास परिषद की ओर से आयोजित स्वागत सम्मान समारोह में भाविप के सेवा कार्यो को प्रशंसनीय बताते हुए सेवा कार्यो से जुड़ने का आव्हान किया।
इस दौरान आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि डीएमएफटी व जिला सर्तकता समिति के सदस्य राजकुमार बैरवा थे। बतौर अतिथि के श्रीरामनिवास धाम के प्रतिनिधि रामेश्वर लाल बसेर, भारत विकास परिषद के अध्यक्ष जयदेव जोशी, शिविर प्रभारी डा नारायण सिंह, सह प्रभारी श्यामसुंदर स्वर्णकार, माहेश्वरी सभा के जिला अध्यक्ष दीनदयाल मारु, भारत विकास परिषद के प्रांतीय कोषाध्यक्ष पवन बांगड़ भी मौजूद रहे।
मुख्य अतिथि उपखंड अधिकारी सुनिता यादव ने कहा कि आज के दौर में रोगियों की सेवा सर्वोपरी है। उन्होंने आयुर्वेद व भाविप के शाहपुरा में हो रहे शिविर को प्रशंसनीय बताते हुए कहा कि राज्य सरकार की ओर से स्वास्थ्य सेवाओं में कई नवाचार करते हुए प्रत्येक व्यक्ति को लाभान्वित करने का प्रयास किया है। जरूरत केवल योजना से जुड़कर लाभ लेने की है। उन्होंने चिरंजीवी योजना का जिक्र करते हुए कहा कि कोई भी व्यक्ति योजना से जुड़कर रोग उपचार व आॅपरेशन के लिए योजना का लाभ ले सकता है। उन्होंने आने वाले समय में कोरोना की संभावना के चलते हुए नागरिकों से अभी से सावचेत रहने व कोरोना गाइड लाइन की पालना करने का आव्हान किया है।
आयुर्वेद विभाग के अतिरिक्त निदेशक डॉ विनायक शर्मा ने आयुर्वेद विभाग की योजनाओं का विस्तार से बताते हुए आयुर्वेद एवं भारतीय चिकित्सा पद्वति को आज की जरूरत बताया। उन्होंने कोरोना काल के बाद लोगों के जुड़ाव का जिक्र करते हुए कहा कि कोरोना की संभावना के मद्देनजर लोगों को अभी से सावधानियों पर जोर देना होगा।
भाविप के प्रांतीय कोषाध्यक्ष पवन बांगड़ ने भाविप के सेवा कार्यो की विस्तार से जानकारी दी। मुख्य अतिथि राजकुमार बैरवा ने कहा कि चिकित्सा शिविरों के माध्यम से रोगियों की सेवा से आम लोगों को ज्यादा लाभान्वित किया जा सकता है। राज्य सरकार की चिंरजीवी योजना का जिक्र करते हुए बैरवा ने कहा कि सभी को न केवल इससे जुड़कर लाभ लेना चाहिए वरन ग्रामीण क्षेत्र में जागरूकता के लिए भी काम करना चाहिए।
भारत विकास परिषद के अध्यक्ष जयदेव जोशी ने सभी का स्वागत करते हुए बताया कि 213 मरीजों की ओपीडी जांच की है। इनमें से 86 मरीजों की पाइल्स की जांच कर अब तक 31 मरीजों को शल्य चिकित्सा के लिए चयनित किया गया है। शल्य चिकित्सा के लिए मरीजों का चयन आज भी किया जायेगा। शिविर प्रभारी डा नारायण सिंह ने आभार ज्ञापित करते हुए भर्ती किये रोगियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये।
शिविर में योगशाला भी प्रारंभ- भाविप के अध्यक्ष जयदेव जोशी ने बताया कि आयुर्वेद चिकित्सा शिविर में प्रतिदिन प्रातः 6 से 7 बजे तक रामशाला परिसर में आयुर्वेद विभाग एवं भारत विकास परिषद के माध्यम से योगशाला का आयोजन भी किया जा रहा है। इसमें रोगियों व शिविर के स्टाॅफ के अलावा कोई भी भाग ले सकता है।
काढ़ा का वितरण- जोशी ने बताया कि कोरोना को सन्निकट देखते हुए भारत विकास परिषद एवं आयुर्वेद विभाग के माध्यम से रामशाला भवन के बाहर प्रातः 8 बजे से काढ़ा वितरण शुरू किया गया है। यह भी 10 दिन तक चलेगा।